highlights
14872 Audio Programmes | 34 Program Languages | 44 Program Themes | 156 CR Stations | 56 CR Initiatives | and growing...

National minorities development and finance corporation ( Hindi)   
 Creative Commons Attribution-NonCommercial

In this episode presenters and experts speaks on Importance of Vocational Trainings and National Minority Development Finance Corporation (NMDFC). यह कार्यक्रम व्यावसायिक प्रशिक्षण के महत्व और उसकी जानकारी लोगो को देने के उद्देश्य से बनाया गया है! खासकर अल्पसंख्यकों को व्यावसायिक प्रशिक्षण देने के लिए व्यावसायिक प्रशिक्षण केंद्र खोले गये हैं और विभिन्न प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाये गये हैं! इस कार्यक्रम का उद्देश्य अल्पसंख्यकों को विकास और सशक्तिकरण की तरफ मजबूती देना और उन्हें रोज़गार उपलब्ध करना है! प्रशिक्षण के द्वारा उन्हें स्वावलंबी बनाने का प्रयास किया गया है ! एक्सपर्ट अकबर अली और एन. सिंघल ने इस कार्यक्रम के बारे में विस्तार से जानकारी दी है!

Role of women in Panchayti Raj ( Hindi)   
 Creative Commons Attribution-NonCommercial

Through success stories of women in Panchayati Raj from differnet states of India, the officials of The Hunger Project discuss the role of women in Panchayati Raj and the struggle that women face.

Likely impact of budget allocations for NREGA ( Hindi)   
 Creative Commons Attribution-NonCommercial

Deepak Xavier of CBGA and Narendra Nath of Pradan in separate interviews briefly discuss about the likely impact of budgetory allocations for National Rural Employement Guarantee Act (NREGA), the flagship programme of the UPA government.

The eight millennium development goals (MDGs) ( Hindi)   
 Creative Commons Attribution-NonCommercial

The eight Millennium Development Goals (MDGs) – which range from halving extreme poverty to halting the spread of HIV/AIDS and providing universal primary education, all by the target date of 2015 – form a blueprint agreed to by all the world’s countries and all the world’s leading development institutions. They have galvanized unprecedented efforts to meet the needs of the world’s poorest. The 8 MDGs break down into 18 quantifiable targets that are measured by 48 indicators 

Goal 1: Eradicate extreme poverty and hunger 

Goal 2: Achieve universal primary education

Goal 3: Promote gender equality and empower women

Goal 4: Reduce child mortality

Goal 5: Improve maternal health

Goal 6: Combat HIV/AIDS, malaria and other diseases

Goal 7: Ensure environmental sustainability

Goal 8: Develop a Global Partnership for Development


People's rights in police custody ( Hindi)   
 Creative Commons Attribution-NonCommercial

In this programme ‘Rights of People in Police Custody’ First Woman IPS Officer, Kiran Bedi and Navaz Kotwal, Coordinator, Common Wealth Human Rights Initiatives have been interviewed. They state that people need to be aware of their rights vis-a-vis the police. This, along with much needed police reforms, can make the system more sensitive and accountable to the people.

पुलिस व्यवस्था देश के प्रशासन का मुख्य भाग है। पुलिस का मतलब है, तुंरत सहायता और राहत। समाज में पुलिस को सुरक्षा की वो जगह माना जाता है, जहाँ पर न्याय मिलता है।

कार्यक्रम में एक महिला राधा के मामले पर प्रकाश डाला गया है। जिसमे उसे झूठे इल्जाम में पुलिस हिरासत में रखकर प्रताडित किया गया। हालाकि समुदाय ने उसका सहयोग देकर उसे छुड़वा लिया।

कार्यक्रम में प्रथम महिला पुलिस अधिकारी, डॉ. किरण बेदी तथा कॉमनवेल्थ ह्यूमन राइट्स इनिशिएटिव्स के संयोजक नवाज़ कोतवाल के साक्षात्कार भी प्रस्तुत है। उनका कहना है कि नागरिकों को पुलिस हिरासत में अपने अधिकारों के बारे में पता होना जरूरी है। ताकि अगर उनके अधिकारों का हनन होता है, तो वे बेझिझक अपनी आवाज़ उठा सकें। उन्होंने कहा कि अगर नागरिक जागरूक होगा और साथ–2 पुलिस व्यवस्था में भी सुधार लाया जाए, तो पुलिस भी सतर्क रहेगी और जनता के अधिकारों का आदर करेगी।

Labour day ( Hindi)   
 Creative Commons Attribution-NonCommercial

In this programme on Labour Day, Ramender, Convener of Delhi Shramik Sangathan highlights the need for government policies and laws that favour the working class. He also underlines the importance of the role that youth can play in bringing the attitudinal change in society.

1 मई पूरे विश्व भर में लेबर डे के रूप में मनाया जाता है। दुनिया भर के मजदूर इस दिवस को शिकागो में 4 मई 1886 को घटित एक घटना की याद में मनाते है, जिसमे अपने अधिकारों की मांग के लिए प्रदर्शन करते हुए कई मजदूर मारे गए थे। भारत में इसे मद्रास शहर में पहली बार 1923 में मनाया गया।

भारत किसानो और मजदूरों का देश है। ये मेहनतकश तबका पूरे राष्ट्र के निर्माण में अपना योगदान दे रहा है। इस मेहनतकश तबके का हमेशा से ही शोषण और अत्याचार होता रहा है, परन्तु उसकी बेहाली की सुध लेने वाला कोई नहीं है।

कार्यक्रम में दिल्ली श्रमिक संगठन के संयोजक रमेन्दर जी का साक्षात्कार भी प्रस्तुत है। उनका कहना है कि आज के युवाओं को सरकार के ऊपर नीतियों में बदलाव के लिए, और समाज में एक अच्छे वातावरण के निर्माण के लिए अपना योगदान देना चाहिए, ताकि श्रमिक समाज की बेहतरी के लिए प्रयास किया जा सके।

Exploitation of animals ( Hindi)   
 Creative Commons Attribution-NonCommercial

यह कार्यक्रम जानवरों पर हो रहे अत्याचार को रोकने के लिए बनाया गया है! सर्कस में, या गली-गली घूमकर खेल दिखाने वाले मदारी के पास पल रहे जानवरों को खेल सिखाने के लिए प्रताड़ित किया जाता है जो अमानवीय है! कार्यक्रम में आम लोगों से बात कर के जानवरों को बंधक बना कर खेल दिखाने के पेशे के सम्बन्ध में राय ली गया है! एक्सपर्ट ईरानी मुखर्जी जो बहुत सालों से जानवरों के लिए काम करती है ने जानवरों के जीवन में दखल न देने की अपील की है, जानवरों की भावनाओं को समझने की कोशिश करने और उनको थोडा सा प्यार देने का सन्देश कार्यक्रम में दिया गया है!

Millenium development goals for better future ( Hindi)   
 Creative Commons Attribution-NonCommercial

सन 2000 में संयुक्त राष्ट्र ने विश्व की सारी समस्याओं को 8 भागों में बांटा और 185 से भी ज्यादा देशों ने 2015 तक इन समस्याओं को ख़तम करने का निर्णय लिया।  इस कार्यक्रम के माध्यम बताने की कोशिश की गई है कि बेशक हमने बहुत सारी प्रगति कर ली है पर अभी भी बहुत कुछ करना बाकी है, समस्याएँ तो बहुत है, और हल भी कई है, बस जरुरत है कदम उठाने की हाथ बढ़ाने की।

Delhi doomed to reel under water crisis ( Hindi)   
 Creative Commons Attribution-NonCommercial

The water crisis in the Indian capital is set to take a turn for the worse in the long term, leading perhaps to more water-related conflicts. In 2021, the city will face a deficit of over 1,000 million liters per day (MLD) - higher than the current figure of around 900 MLD. 'Providing adequate water supply to meet the city's varied needs is an onerous task. It is going to be the biggest challenge before the city in the years to come, and what makes the job indeed tougher is the limited resources for water,' a top Delhi Jal Board (DJB) official told IANS requesting anonymity. 

Awareness on creches for construction workers ( Hindi)   
 Creative Commons Attribution-NonCommercial

Creche is a day care center where the child is taken care off when the parents go to work. This programme mainly imparts information on creches available to construction workers
For some couples private creches and creches opened by their companies have come to their help. But this facility is not freely available to other section of the society. This programme also explains how one can avail this facility and the initiative taken by the Labour Ministry for other sections of the society.

Governance --> Service Delivery

160 Programme(s)

This thematic area addresses the issue of delivery of services provided by the government to the public. It isimperative that a high quality of basic services such as health and education be provided to all citizens, since these are not only ends in themselves, but also play a critical role in enhancing individual capabilities to participate fully in the growth of the economy.