highlights
14872 Audio Programmes | 34 Program Languages | 44 Program Themes | 156 CR Stations | 56 CR Initiatives | and growing...

MKP (Give and take) Ep - 19 ( Hindi)   
 Creative Commons Attribution-NonCommercial

काली का अब तक कुछ पता नहीं चल पाया लेकिन उसे ढूंढते ढूंढते हम सबको मैथ सीखने का आसान तरीका पता चल चुका है. आज सबीन का सैवईयां खाने को बहुत मन हो रहा है लेकिन घर में दूध है ही नहीं बेचारा मुंह लटका के स्कूल चला तो गया लेकिन उसका मन पढाई में कम सवईयों में ज्यादा लगा रहा. देखते हैं आज मैथ उसको कौन सी तरकीब समझाता है जिससे कि दूध मिल जाये और सैवईयां भी बन जाये.

MKP (Teen Anko Ka Jod or Ghata) Ep - 20 ( Hindi)   
 Creative Commons Attribution-NonCommercial

दोस्तों सबीहा और सबीन के इम्तेहान का रिजल्ट यानी नतीजा निकल आया है, सबीन बेहद खुश है क्यूंकि उसका मैथ का पेपर बहुत अच्छा गया था और उसे अंक भी अच्छे मिले हैं. उसे यकीन भी है कि वो ही इनाम भी जीतेगा. चलिए देखते हैं इनाम किसे मिलता है और आज मैथ के पिटारे में क्या है खास.

Shauchalay Mere Angana (Toilet in my house) ( Hindi)   
 Creative Commons Attribution-NonCommercial

Shauchalay mere angana (Toilet in my house) is a radio drama on importance of constructing and using toilet. This series is supported by Maraa, Bangalore.

Shauchalay Mere Angana (Toilet in my house) ( Hindi)   
 Creative Commons Attribution-NonCommercial-ShareAlike

Shauchalay mere angana (Toilet in my house) is a radio drama on importance of constructing and using toilet. This series is supported by Maraa, Bangalore.

Shauchalay Mere Angana (Toilet in my house) ( Hindi)   
 Creative Commons Attribution-NonCommercial

Shauchalay mere angana (Toilet in my house) is a radio drama on importance of constructing and using toilet. This series is supported by Maraa, Bangalore.

Shauchalay Mere Angana (Toilet in my house) ( Hindi)   
 Creative Commons Attribution-NonCommercial

Shauchalay mere angana (Toilet in my house) is a radio drama on importance of constructing and using toilet. This series is supported by Maraa, Bangalore.

MKP (100 - 999) Ep - 18 ( Hindi)   
 Creative Commons Attribution-NonCommercial

जैसे तैसे उठके सबीन इम्तेहान समय पर स्कूल पहुँच गया. लेट हो जाता तो इम्तिहान कैसे देता. सबीहा के घर में न होने की वजह से उसे समय पर उठाने वाला कोई नहीं था. न ही उसे कोई स्कूल समय पर पहुँचने के लिए प्रेरित करने वाला है . अल्लाह का शुक्र है की अम्मी ने उसे समय पर उठा कर स्कूल भेजा. आज इम्तिहान खत्म हो गए हैं. सबीन खुश है. पर उसकी ख़ुशी का एक और कारण है जो वो बस अम्मी अब्बू को बताने के लिए बेहद उतावला है. चलिए चलते हैं हुसैन खान के घर और जानते हैं आखिर माज़रा क्या है...

Drama

786 Programme(s)

A radio drama is also known as a radio play. Radio plays are similar to any other play with an important difference being that it does not have such defining components of a stage play like curtain, set or live actors. However, a radio programme is characterized by three components